अकाली दल की मान्यता होगी रद्द ?

0
873
SUPPORT US BY SHARING

शारोमणि अकाली दल की मान्यता को लेकर सोसिलिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय उप प्रधान बलवंत सिंह खेड़ा ने मानयोग अदालत में केस को लेकर आज हुशियारपुर ज़िला अदालत में पेश हुए , वही अकाली दल बादल की तरफ से चरणजीत सिंह बराड़ सेक्टरी व स्पोक्स पर्सन ने पार्टी सविधान ( रिकॉर्ड )पेश किया , जिसके बाद मानयोग अदालत ने अब इस केश की अगली तारीख अब नौ जनवरी 2019 डाल दी है

देश की राजनीति में पहली बार ऐसा होने जा रहा है जब किसी पार्टी की मान्यता रद कि जाएगी , ऐसा कहना है  सोसिलिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय उप प्रधान बलवंत सिंह खेड़ा का जिन्होंने शारोमणि अकाली दल पार्टी की मान्यता को लेजर सवाल खड़े किए है , खेड़ा ने मानयोग अदालत में एक याचिका दायर की थी कि शारोमणि अकाली दल ने पार्टी को मान्याता में अपने आप को सेकुलर बताया है जब कि दूसरी जगाय नॉन सेकुलर बताकर पार्टी की।मान्यता हासिल की है जो कानून के अनुकूल नही है जिसके बाद खेड़ा ने साल 2008 में एक याचिका दायर की थी ,

जिसकी लगातार सुनवाई के बाद आखिरकार मानयोग अदालत ने अकाली दल को अपना पार्टी सविधान पेश करने को कहा था और आज अकाली दल की तरफ से चरणजीत सिंह बराड़ पेस हुए जिन्होंने पार्टी सविधान पेश किया जिसके बाद मानयोग अदालत ने केश की अगली तारीख 9 / 1/ 19 डाल दी है , पेश होने उपरान्त चरणजीत सिंह बराड़ में कहा कि बलवंत सिंह ने जो केश किया है वे बेबुयाद है मानयोग अदालत पार्टी सविधान पेश करने को कहा था जिसे उन्होंने पेश किया है यही बचाव पक्ष के वकील की तरफ से हरजिंदर सिंह धामी पेश हुए जिन्होंने अगली तारीख 9 जनवरी 2019 बताया। 

वही पिछले कई सालों से इस केश की पेहरवाई करते हुए बलवंत सिंह खेडा ने बताया कि जो उन्होंने अदालत में केस किया है वे बिल्कुल सच्चा है जो उन्हें अदालत पर यकीन है और वे बादल को जेल भेजेगे ,जिसके लिए वे पिछले कई साल से यह मुद्दा उठाये हुए है ,खेड़ा ने दावा किया है कि देश मे अकाली दल पहली पार्टी होगी जिसकी मान्याता रद होगी ।


SUPPORT US BY SHARING

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here