बादल को ऐस आई टी पर नहीं एतबार

18-Nov-16 12:11:12
0
56
SUPPORT US BY SHARING

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री सरदार प्रकाश सिंह बादल सुबह से ही स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम का इंतजार कर रहे थे। करीब दोपहर 3:00 बजे स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम के एक सदस्य कुंवर विजय प्रताप सिंह सरदार प्रकाश सिंह बादल के सरकारी निवास पर पहुंचते हैं, जिनका स्वागत खुद प्रकाश सिंह बादल ने घर से बाहर निकल कर किया। लेकिन साथ ही प्रकाश सिंह बादल ने यह भी पूछा कि सिट के चेयरमैन प्रबोध कुमार क्यों नहीं पहुंचे? जिसका जवाब कुंवर विजय प्रताप सिंह के पास नहीं था उसके बाद सरदार प्रकाश सिंह बादल के अनुरोध करने पर कुंवर विजय प्रताप सिंह ने प्रबोध कुमार (जोकि स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम के मुखी हैं) को फोन मिलाया और प्रकाश सिंह बादल से उनकी बात करवाई।
प्रकाश सिंह बादल ने फोन पर प्रबोध कुमार से कहा कि मैं 5 बार 1 राज्य का मुख्यमंत्री रह चुका हूं, उम्र दराज  हूं, क्या आप मेरे लिए नहीं आ सकते थे। मैं चाहता था कि सिट के मुखी मुझसे खुद सवाल जवाब करें। प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि अगर आप यहां नहीं आ सकते या आपको यहां आने में कोई दिक्कत है तो आप कहिए मैं आ जाता हूं जहां कहेंगे। इसके बाद प्रबोध कुमार ने प्रकाश सिंह बादल के सरकारी निवास पर आने के लिए हामी भर दी और कुछ देर के बाद सिट के मुखी प्रमोद कुमार भी पहुंच गए और कुछ ही देर बाद सिट के एक और मेंबर भूपेंद्र सिंह भी प्रकाश सिंह बादल के सरकारी निवास स्थान पर पहुंच गए। कुल मिलाकर 5 सदस्यों वाली सिट के तीन सदस्य प्रकाश सिंह बादल से पूछताछ के लिए पहुंचे हैं यहां यह भी जिक्र करना अनिवार्य है कि जिस तरह से सबसे पहले कुंवर विजय प्रताप सिंह पड़ताल के लिए पहुंचे थे उसके बाद सरदार प्रकाश सिंह बादल ने इसे पॉलिटिकली मोटिवेटेड भी बताया।
सवाल पूछने के बाद जब स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम के सभी सदस्य वापस चले गए उसके बाद प्रकाश सिंह बादल मीडिया से भी मुखातिब हुए। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ये स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम पॉलिटिकली मोटिवेटेड है और जैसा पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह चाहेंगे वैसी ही रिपोर्ट इस स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम की तरफ से बनाई जाएगी। प्रकाश सिंह बादल ने यह भी कहा कि हमें गवाहों से मुलजिम बनाया जाएगा। प्रकाश सिंह बादल ने यह भी कहा कि पंजाब के इतिहास में ऐसा कभी भी नहीं हुआ कि धारा 307 के तहत मामले में किसी पूर्व मुख्यमंत्री को गवाह बनाया गया हो उन्होंने कहा कि शिरोमणि अकाली दल शुरू से ही कांग्रेस की धक्केशाही के खिलाफ लड़ता रहा है। बात चाहे भारत में लगाई गई इमरजेंसी की हो या फिर श्री हरमंदिर साहिब पर हुए अटैक की हो, शिरोमणि अकाली दल ने हमेशा ही जन्म के खिलाफ आवाज उठाई है।

SUPPORT US BY SHARING