माणूंके, फूलका और संधवां ने उठाया लुधियाना गैंगरेप का मामला

19-Feb-13 10:33:28
0
77
SUPPORT US BY SHARING

‘आप’ की जगरावां से विधायका सरबजीत कौर माणूंके ने लुधियाना गैंगरेप का मुद्दा सिफर काल में उठाते हुए कहा कि राज्य में औरतों पर अत्याचार की घटनाएं तेजी के साथ बढ़ती जा रही हैं। माणूंके ने कानून-व्यवस्था की दयनीय हालत का हवाला देते हुए कहा कि यदि मूल्लांपुर दाखा की पुलिस पीडि़त के सहयोगी की ओर से दी सूचना को गंभीरता के साथ लेती तो बचाव हो सकता था। दाखा से विधायक एच.एस. फूलका ने मांग करते कहा कि दोषी पुलिस अफसरों-कर्मचारियों को नौकरी से बर्खास्त कर समूचे पुलिस और प्रशासन को सख्त संदेश दिया जाए।
मुद्दे की गंभीरता को समझते हुए मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि 2 वर्षों में कानून व्यवस्था की स्थिति बहुत अच्छी है परंतु गैंगरेप जैसे ऐसे मामलों के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। मुख्य मंत्री ने बताया वह निजी तौर पर पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के साथ मिल कर ऐसे अपराधों के निपटारे के लिए विशेष फास्ट ट्रैक कोर्टें स्थापित करने की अपील करेंगे।
इस मुद्दे पर कोटकपूरा से विधायक कुलतार सिंह संधवां ने कहा कि यदि पुलिस का डर हो तो कोई भी ऐसे घिनौने जुर्म करने की हिम्मत नहीं कर सकता। संधवां ने स्पीकर के द्वारा मुख्य मंत्री को कहा कि सुस्त कानून व्यवस्था से सहमे पंजाब के लोग 2002 से 2007 वाले कैप्टन अमरिन्दर सिंह का इंतजार कर रहे हैं इस लिए वह पुलिस, प्रशासन और अपराधियों को सख्त संदेश दें।
संधवां ने पटियाला और बठिंडा में अध्यापकों पर किए लाठीचार्ज का मुद्दा उठाते हुए मुख्य मंत्री को पूछा कि विरोधी पक्ष द्वारा दिए गए काम-रोकू प्रस्ताव पर बहस करने से सरकार क्यों भाग रही है?


SUPPORT US BY SHARING

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here