मीत हेयर ने कैप्टन सरकार को घेरा

19-Mar-06 10:47:28
0
100
SUPPORT US BY SHARING

आम आदमी पार्टी ने राज्य की कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार द्वारा राज्य में बेरोजगारी प्रति कोई ठोस नीति न लाने के लिए सरकार की आलोचना करते कहा है कि सरकार चुनावों से पहले नौजवानों और अन्य वर्गों के साथ किए वायदों को भूल गई है जिसका क्षतिपूर्ति राज्य के नौजवानों को भुगतना पड़ रहा है।
पार्टी के चण्डीगढ़ स्थित हैडक्वाटर से जारी ब्यान में बरनाला से विधायक गुरमीत सिंह (मीत हेयर), बठिंडा देहाती से विधायक रुपिन्दर कौर रूबी और यूथ विंग के राज्य प्रधान मनजिन्दर सिंह सिद्धू ने कहा कि चुनाव से पहले कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने हर घर रोजगार का वायदा करके नौजवान को सरकारी नौकरी देने का वायदा किया था परंतु सरकार अब अपने किये वायदे से भाग रही है। उन्होंने कहा कि राज्य में कांग्रेस सरकार नौजवानों के साथ झूठे वायदे करके सत्ता में आई है।
‘आप’ नेताओं ने कहा कि राज्य सरकार न सिर्फ अपने किए वायदे से पलटी है बल्कि उसने नौजवानों के साथ धोखा करके उनको पंजाब छोडऩे के लिए मजबूर किया है। मीत हेयर ने कहा कि रोजगार की अनुपस्थिति के कारण पंजाब में हर रोज हजारों नौजवान हर सही गलत रास्ता अपना कर विदेश जाने के लिए मजबूर हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य के नौजवान के विदेशों में जाने से राज्य का अमूल्य खजाना तो जा ही रहा है इस के साथ राज्य को कर का भी नुक्सान हो रहा है।
अंग्रेजी के एक प्रमुख अखबार में प्रकाशित रिपोर्ट का हवाला देते हेयर ने कहा कि फरवरी 2018 की 5.9 के मुकाबले फरवरी 2019 में देश की बेरोजगारी की दर 7.2 प्रतिशत हो गई है जो कि सितम्बर 2016 से अब तक की सब से ऊंची दर है। हेयर ने कहा कि पंजाब में भी बेरोजगारी की स्थिति बहुत दयनीय है।
रुपिन्दर कौर रूबी ने कहा कि पिछली अकाली भाजपा की सरकार की तरह कैप्टन अमरिन्दर सिंह की कांग्रेस सरकार भी नौजवानों को रोजगार प्रदान करने की बजाए उनसे पहले वाला रोजगार भी छीनने की नीति पर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह का हर घर रोजगार देने का वायदा भी मोदी सरकार की तरह जुमला ही साबित हुआ है।
राज्य सरकार द्वारा बेरोजगार नौजवानों प्रति अख्तियार की नीति पर हैरानी प्रकट करते मनिन्दर सिद्धू ने कहा कि ऐसा करके सरकार राज्य के नौजवानों को अलग-अलग बीमारीओं जैसे नशा और आत्म हत्या की तरफ धकेल रही है। उन्होंने कहा कि पंजाब के पढ़े लिखे नौजवानों का नौकरी की खोज में अलग अलग मुल्कों में जाना भी राज्य के लिए शुभ संकेत नहीं है।
केंद्रीय मंत्री और अकाली नेता हरसिमरत कौर बादल पर निशाना साधते सिद्धू ने कहा कि की वह मोदी सरकार में मंत्री होने के बावजूद भी राज्य के नौजवानों और अन्य वर्गों के लिए गंभीर नहीं हैं। उन्होंने कहा कि यदि मंत्री रहते हरसिमरत बादल कोई यत्न करते तो निश्चित तौर पर राज्य में बेरोजगारी का मुद्दा इतना गंभीर रूप धारण न करता। उन्होंने कहा कि हरसिमरत कौर बादल की तरफ से ऐलान करने के बावजूद भी पंजाब में कोई फूड प्रोसेसिंग यूनिट न लगाने से भी राज्य में रोजगार के मौके कम ही हुए हैं। उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री विजय सांपला को भी राज्य में बेरोजगारी पर अपना स्पष्टीकरण देना चाहिए।


SUPPORT US BY SHARING

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here